बड़ी खबरः कल हुई मुठभेड़ में हार्ट अटैक से नहीं गोली लगने से जवान हुआ था शहीद, ऐसे हुआ खुलासा

0
22

दंतेवाड़ा। मंगलवार सुबह कटेकल्याण में पुलिस और नक्सलियों के बीच हुए मुठभेड़ के मामले ने अब नया मोड़ ले लिया है। इस मुठभेड़ में शहीद जवान कैलाश नेताम की मौत पहले हार्ट अटैक से होने की बात कही गई। लेकिन अब पुलिस दो दिनों में दो तरह की बाते कह रही है। कल जवान की मौत का कारण हार्ट अटैक बताया था। आज नक्सली की गोली लगना बता रहे हैं।

दन्तेवाड़ा एसपी अभिषेक पल्लव ने पुष्टि की है कि गोली लगने से जवान की मौत हुई है। एक्सरे कराने के बाद इसका खुलासा हुआ है। यानी पहले जल्दबाजी में प्रेस नोट जारी कर हार्ट अटैक से मौत होने की वजह बता दी गई। अन्य साथी जवानों को भी इसकी जानकारी नहीं लगी की उसकी मौत कैसे हुई ? जवान के शरीर पर कमर के नीचे हिप्स में गोली लगी है। जिससे उसकी मौत हुई। यही नहीं गोली लगने के बाद शरीर से खून भी नहीं निकला है।

जवान का पोस्टमार्टम कराने के बाद पार्थिव शरीर को गार्ड ऑफ ऑनर दिया जाएगा। उसके बाद पार्थिव देह को गृहग्राम कांकेर भेजा जाएगा। शहीद जवान कैलाश कांकेर के नरहरपुर सरोना का रहने वाला था। आज सुबह उनके परिजन भी दंतेवाड़ा पहुंच गए हैं। दशहरा के पर्व के दिन जवान बेटे को खोने से परिजन दुखी है और उनका रो-रोकर बुरा हाल है। यदि जवान का मंगलवार को ही पोस्टमार्टम हो जाता, तो पार्थिव शरीर कल ही घर पहुंच जाता और दोपहर तक अंतिम संस्कार कर दिया जाता। लेकिन अब पहले पोस्टमार्ट होगा फिर पार्थिव शरीर गृहग्राम रवाना किया जाएगा।

बता दें कि कल सुबह मुठभेड़ में शहीद जवान का 24 घंटे बाद भी PM नहीं हुआ है। कल खबर ये थी मुठभेड़ में शामिल जवान कैलाश नेताम की मौत दिल का दौरा पड़ने से हुई है, उसने इलाज के लिए अस्पताल ले जाते वक्त दम तोड़ दिया। लेकिन अब पुलिस ने अपना बयान बदल लिया है। पुलिस अब नक्सलियों की गोली से शहीद होना बता रही है।

ऐसे में यह बात समझ से परे है कि आखिर ये माजरा क्या है? क्योंकि दोनों ही बातों में जमीन आसमान का फर्क है। जिसे जवान की हालत देखकर ही बताया जा सकता है, अब ऐसे में पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवाल उठ रहे हैं कि आखिर पुलिस क्या कुछ छिपाना चाह रही है ? या फिर अपनी गलती सुधारने की कोशिश कर रही है।

 

( मोरख़बर से आप फ़ेसबुकट्विटरयूट्यूबइंस्टाग्राम  व व्हाट्सएप पर फ़ॉलो व लाइक करके जुड़ सकते हैं )

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here