लेबनान की राजधानी में शरणार्थी किशोरियों पर हुआ चौंकाने वाला सर्वे, रोज होता है शारीरिक शोषण और यौन उत्पीड़न – रिपोर्ट  

0
52

बेरूत। लेबनान की राजधानी बेरुत में शरणार्थी शिविर में रहने वाली लड़कियों की स्थिति बद से बत्तर है। मानवाधिकार संगठन प्लान इंटरनेशनल के एक सर्वे के अनुसार यहां शरणार्थी किशोरियों को यौन उत्पीड़न और शारीरिक हिंसा का सामना करना पड़ता है।

मानवाधिकार संगठन प्लान इंटरनेशनल ने अपने सर्वे में 10 से 19 उम्र की 400 शरणार्थियों से बातचीत की है। इस दौरान लड़कियों का कहना है कि उनका शारीरिक उत्पीड़न किया जाता है तथा पीछा करने , अपहरण और बलात्कार जैसी घटनाओं का उन्हें सामना करना पड़ रहा है।

पश्चिम एशिया में संगठन के क्षेत्रीय कार्यक्रम निदेशक कोलिन ली ने इस सर्वेक्षण पर चिंता जताते हुए कहा कि इन किशोरियों की बातों को कोई नहीं सुनता है और मानवीय संकट के इस दौर में इस तरह की उपेक्षा स्थिति को और कटु बनाती है।

इन लडकियों का कहना है “ हम बाहर अकेले जाने से भी डरती है और यहां -वहां नशे में धुत्त आदमी हमे परेशान करते हैं और जो शराब नहीं पीते वे भी अपनी हरकतों से बाज नहीं आते हैं।”
यह रिपोर्ट विश्व शरणार्थी दिवस 20 जून के मौके पर जारी की गई है ताकि विभिन्न देशों की सरकारों, संयुक्त राष्ट्र और लेबनान की सिविल सोसायटी तथा मानवाधिकार संगठनों तक इन बच्चियों की आवाज पहुंचाई जा सके।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here