देश

महिला आरक्षण की मांग पर नागालैंड में भड़की हिंसा, सरकारी दफ्तरों में लगाई आग, बुलाई गई सेना

2017-02-04 04:02 pm.
No image

 

कोहिमा (ए.)। नागालैंड की राजधानी कोहिमा में शहरी स्थानीय निकाय चुनाव में महिलाओं को आरक्षण दिए जाने के खिलाफ प्रदर्शन हिंसक हो गया है। महिलाओं को 33 प्रतिशत आरक्षण देने का विरोध कर रहे प्रदर्शकारियों ने राज्य निर्वाचन आयुक्त के कार्यालय में तोड़फोड़ की और नगर पालिका परिषद व जिला कमिश्नर के कार्यालय में आग लगा दी। वहीं हालात बेकाबू होता देख नगालैंड पुलिस की मदद के लिए सेना की पांच टुकड़ि‍यां भेजी गई हैं। गुस्साई भीड़ ने क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय और एक्साइज विभाग के दफ्तर में भी आग लगा दी। फिलहाल पुलिस ने इन सभी घटनाओं की पुष्टि नहीं की है।

प्रदर्शनकारी मुख्यमंत्री टी.आर. जेलिआंग और उनके पूरे मंत्रिमंडल के इस्तीफे की मांग कर रहे थे। प्रदर्शनकारी शहरी निकाय चुनाव में महिलाओं को 33 प्रतिशत आरक्षण देने का विरोध कर रहे हैं। वे इस बात पर गुस्से में थे कि प्रभावशाली आदिवासों समूहों के विरोध के बावजूद जेलिआंग सरकार शहरी निकाय के चुनाव करा रही थी। इससे पहले गुरुवार को विभिन्न आदिवासी संगठनों की प्रतिनिधि संस्था नगालैंड ट्राइब्स एक्शन कमेटी (एनटीएसी) ने जेलिआंग सरकार को शाम चार बजे तक इस्तीफा देने, दीमापुर के पुलिस कमिश्नर को हटाने और जारी चुनाव प्रक्रिया को समाप्त करने का अल्टीमेटम दिया था। एनटीएसी ने राजभवन को एक ज्ञापन भी सौंपा है। हालांकि, राज्यपाल पीबी आचार्य इटानगर में हैं। उनके पास अरूणाचल प्रदेश के राज्यपाल का भी प्रभार है। मंगलवार को दीमापुर में दो प्रदर्शनकारियों के पुलिस फायरिंग में मारे जाने के बाद से ही राज्य में माहौल तनावपूर्ण हो गया था। बुधवार को जब उनका शव कोहिमा में लाकर रखा गया तो स्थिति और तनावपूर्ण हो गई। एनटीएसी के दबाव में जेलिआंग ने चुनाव प्रक्रिया को रद्द कर दिया है और दीमापुर के पुलिस कमिश्नर का ट्रांसफर कर दिया है, ताकि फायरिंग की घटना की निष्पक्ष जांच हो सके। हालांकि मुख्यमंत्री की घोषणाएं चार बजे की समय सीमा समाप्त होने के पहले ही हुई थी, फिर भी भीड़ हिंसक हो गई।

 

 

 

Ad

इन्हें भी देखे

Follow Us




Copyright © BlueBanyan