छत्तीसगढ़

कलेक्टर्स कॉन्फ्रेंस में मुख्यमंत्री ने कहा 'राज्य के विकास के लिए बहुत कुछ करने की जरूरत'

रायपुर 2017-01-10 08:01 pm.
No image

रायपुर. मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की अध्यक्षता में आज सवेरे यहां मंत्रालय (महानदी भवन) में कलेक्टर्स कॉन्फ्रेंस की शुरूआत हुई। डॉ. सिंह ने बैठक को सम्बोधित करते हुए कहा कि सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं के क्रियान्वयन में राज्य के सभी 27 जिलों में टीम वर्क के जरिये अच्छी उपलब्धियां हासिल की गई है। उन्होंने कहा - हर जिले में किसी न किसी योजना में बहुत अच्छे कार्य भी हुए हैं, कुछ योजनाओं में कुछ जिलों को और बेहतर करने की आवश्यकता है। सरकार की योजनाओं को अंतिम व्यक्ति तक पहुंचाने के लिए हम सबको टीम भावना से काम जारी रखना होगा।

 डॉ. सिंह ने सरकार के सभी विभागों और अधिकारियों के काम-काज की तुलना क्रिकेट मैच से करते हुए कहा - अभी तो हम लोग एक दिवसीय क्रिकेट मैच के आखिरी 15 ओव्हरों में प्रवेश कर रहे हैं। हम सबकों अपना प्रदर्शन और भी बेहतर करने की जरूरत है, उन्होंने विशेष रूप से स्वच्छ भारत मिशन, प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना, प्रधानमंत्री ग्रामीण और शहरी आवास योजना की विस्तार से समीक्षा की।                          मुख्यमंत्री ने कहा कि कलेक्टर्स कॉन्फ्रेंस के बाद प्रत्येक जिला कलेक्टर को उनका जिला स्तरीय परफारमेंस की एक बुकलेट रिपोर्ट कार्ड के रूप में दी जाएगी। कलेक्टर्स कॉन्फ्रेंस की शुरूआत पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के प्रस्तुतिकरण से हुई। इसमें सबसे पहले प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण) की समीक्षा की गई। मुख्यमंत्री ने इसके बाद प्रधानमंत्री शहरी आवास योजना की समीक्षा की। डॉ. सिंह ने स्वच्छ भारत मिशन की समीक्षा करते हुए कहा कि यह प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सर्वोच्च प्राथमिकता का मिशन है। मुख्यमंत्री ने बस्तर संभाग के सभी सात जिलों के कलेक्टरों को स्वच्छ भारत मिशन के तहत शत-प्रतिशत गांवों को जून 2018 तक खुले में शौचमुक्त (ओ.डी.एफ.) घोषित करने का लक्ष्य दिया। प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना की समीक्षा के दौरान मुख्यमंत्री ने दुर्ग, रायपुर और सरगुजा जिलों के प्रदर्शन को सुधारने की जरूरत बतायी। 
डॉ. सिंह ने सहकारी समितियों में समर्थन मूल्य पर किसानों से की जा रही धान खरीदी की प्रगति की भी समीक्षा की। उन्होंने समितियों के उपार्जन केन्द्रों में खरीदे गए धान की मिलिंग के लिए उठाव में तेजी लाने के लिए कहा। सौर सुजला योजना की समीक्षा करते हुए मुख्यमंत्री ने योजना के इस वर्ष के लक्ष्य को जल्द से जल्द पूर्ण करने की जरूरत बतायी।  डॉ. रमन सिंह ने गरीब परिवारों की महिलाओं के नाम पर निःशुल्क रसोई गैस कनेक्शन देने के लिए संचालित प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना की भी जिलेवार समीक्षा की। कलेक्टर्स कॉन्फ्रेंस में मुख्य सचिव विवेक ढांड, ऊर्जा विभाग तथा मुख्यमंत्री के अपर मुख्य सचिव एन. बैजेन्द्र कुमार, पंचायत और ग्रामीण विकास विभाग के अपर मुख्य सचिव एम.के. राउत, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव अमन कुमार सिंह सहित मंत्रालय के अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे। 

कैशलेस लेन-देन को बढ़ावा देने का निर्देश

मुख्यमंत्री ने सभी जिला कलेक्टरों को आम जनता के बीच नगदी रहित लेनदेन (कैशलेस ट्रांजेक्शन) को बढ़ावा देने के लिए लगातार अभियान चलाने के निर्देश दिए हैं। मुख्यमंत्री के समक्ष छत्तीसगढ़ इन्फोटेक प्रमोशन सोसायटी (चिप्स) की ओर से इस सिलसिले में जिलेवार प्रस्तुतिकरण भी दिया गया। डॉ. सिंह ने कहा कि बिलासपुर और राजनांदगांव जिलों के ग्रामीण क्षेत्रों में चिप्स के सामान्य सेवा केन्द्रों (सी.एस.सी.) को ज्यादा सक्रिय करने की जरूरत है, ताकि इन केन्द्रों के जरिये विभिन्न योजनाओं का लाभ लोगों को मिल सके और कैशलेस लेन-देन को भी लोकप्रिय बनाया जा सके।

सड़क परियोजनाओं की हर महीने समीक्षा करें जिला कलेक्टर

मुख्यमंत्री ने जिला कलेक्टरों को सड़क निर्माण परियोजनाओं में तेजी लाने और हर महीने इनकी समीक्षा करने के निर्देश दिए हैं। कुछ सड़क परियोजनाओं के लंबित कार्यों को आगे बढ़ाने के लिए फारेस्ट क्लियरेंस और भू-अर्जन जैसे मामलों का जल्द से जल्द निराकरण करने के भी निर्देश दिए।  डॉ. सिंह ने कहा कि यह जिला कलेक्टरों की जिम्मेदारी है कि वे इनके निर्माण में आने वाली रूकावटों को दूर करने के लिए त्वरित कार्रवाई करें। 

इन्हें भी देखे

Follow Us




Copyright © BlueBanyan